टॉप सक्सेस स्टोरी

अवनि चतुर्वेदी: फाइटर जेट उड़ाने वाली भारत की पहली महिला पायलट

अवनि चतुर्वेदी:  फाइटर जेट उड़ाने वाली  भारत की पहली महिला पायलट

19 फरवरी को अवनि चतुर्वेदी ने इंडियन एयरफोर्स में इतिहास रच दिया। अवनि चतुर्वेदी भारत की पहली फाइटर जेट उड़ाने वाली महिला पायलट है। अवनि ने अकेले ही मृग -21 बाइसन उड़ाया, उन्होंने यह विमान गुजरात के जामनगर से उड़ाई थी। अवनि बचपन से ही एक पायलट बनना चाहती थी और आखिरकार उन्होंने अपना यह सपना साकार कर दिखाया । आइए जानते है अवनि के बारे में कुछ मत्वपूर्ण बातें |

  • नाम : अवनि चतुर्वेदी
  • जन्म वर्ष : 27 अक्टूबर 1993
  • जन्म स्थान : मध्यप्रदेश रीवा
  • राष्ट्रीयता : भारतीय
  • पिता का नाम : दिनकर चतुर्वेदी
  • माता का नाम : सविता चतुर्वेदी
  • पद : प्रथम महिला फाइटर प्लेन पायलट
  • पसंद : चित्रकारी व टेनिस
  • लम्बाई : 163 cm
  • वजन : 50 किलो

अवनि चतुर्वेदी का परिवार

अवनि चतुर्वेदी का जन्म 1993 के अक्टूबर महीने में हुआ था । उनके पिता का नाम दिनकर चतुर्वेदी है तथा उनकी माता का नाम सविता है। उनके पिता रीवा में सिंचाई विभाग में इंजीनियर है और उनकी माता सविता हाउसवाइफ है। अवनि की मां का कहना है कि वे बचपन से ही पायलट बनना चाहती थी।
अवनि अपने बचपन की कहानी बताते हुए कहती है कि, “जब वे स्कूल में थी तब टीवी पर उन्होंने कल्पना चावला के प्लेन क्रैश की खबर देखी जिसके बाद उनकी मां बहुत दुखी हो गई। तब अवनी ने अपनी रोती मां से कहा के आंसू मत बहाओ, मैं अगली कल्पना चावला बनूँगी।“
अवनि कहती है कि इस घटना के बाद से ही उनके मन में पायलट बनने का सपना घर कर गया। वह आगे कहती है कि कल्पना चावला के बाद पूर्व राष्ट्रपति एपीजे कलाम से भी उन्हें काफी प्रेरणा मिली। अवनि के भाई भारतीय सेना में है। जब भी अवनि उनकी वर्दी देखती थी तब उनके मन में भी आर्मी जॉइन करने की इच्छा जागृत होती थी। सही मायनों में अवनि अपने भाई से प्रेरित होकर वायु सेना में आई। वह उनके भाई की भी यही ख्वाइश थी कि उनकी बहन सेना में काम करें।

अवनि चतुर्वेदी का निजी जीवन

अवनि चतुर्वेदी शहडोल की रहने वाली है। उन्होंने साल 2014 में राजस्थान की बनस्थली यूनिवर्सिटी से बी टेक में स्नातक की डिग्री हासिल की। बीटेक में उन्होंने 88% अंक हासिल किया। बी टेक खत्म करते ही उन्हें बहुराष्ट्रीय कंपनी में नौकरी भी मिल गयी। लेकिन जब 6 महीने बाद उनका एयर फोर्स अकादमी में सिलेक्शन हुआ तो उन्होंने वह नौकरी छोड़ दी। अवनि सिर्फ कॉलेज में ही नहीं बल्कि स्कूल में भी काफी होशियार थी। अवनि ने 10वी और 12वी के दोनों ही बोर्ड में परीक्षा में टॉप किया था।
उन्होंने अपनी हवाई ट्रेनिंग हैदराबाद एयरफोर्स एकेडमी में पूरी की। उस समय वे सिर्फ 25 साल की थी। जब वे उड़ान भर रही थी तब कंट्रोलर व उनके प्रशिक्षक वहाँ पर निगरानी के लिए मौजूद थे। अवनि चतुर्वेदी ने साल 2016 में अपने साथी मोहन सिंह और भावना कांत के साथ 1 साल की ट्रेनिंग की। ट्रेनिंग के महज 2 साल बाद ही 19 फरवरी को वह फाइटर प्लेन उड़ाने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बन गई। बता दें, इससे पहले यानी कि साल 2016 से पहले भारतीय वायुसेना में महिलाओं को फाइटर प्लेन उड़ने की अनुमति नहीं दी गई थी। कुछ चुनिंदा देशों में ही महिलाएं फाइटर पायलट बन सकती हैं।

साल 2019 में अपनी चतुर्वेदी ने की शादी

अपनी चतुर्वेदी ने साल 2019 के दिसंबर महीने में शादी की। उन्होंने मध्य प्रदेश में विनीत छिकारा के साथ शादी की। विनीत भी वायु सेना में है। वे वायु सेना में फ्लाइंग लेफ्टिनेंट के पद पर कार्यरत है। विनीत छिकारा के पिता हरियाणा पुलिस में सब इंस्पेक्टर दयानंद छिकारा है।

अवनि की रुचियां

अवनि का सपना फाइटर प्लेन पायलट बनना था जो कि उन्होंने पूरा किया। इसके अलावा भी अवनि को कई चीजें पसंद है। उनका कहना है कि उन्हें चित्रकारी, चेस खेलना, टेबल टेनिस खेलना आदि भी काफी पसंद है।

अवनि चतुर्वेदी से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

  • अवनि के परिवार में उनके भाई ने उन्हें सेना में आने के लिए प्रेरित किया।
  • उन्होंने राजस्थान के बनस्थली यूनिवर्सिटी से बीटेक किया।
  • अवनि ने एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में 6 महीने के इंटर्नशिप की लेकिन उसके बाद ही वह वायुसेना में शामिल हो गई।
  • बीटेक के बाद उन्होंने आईबीएम में सिस्टम इंजीनियर के तौर पर 3 साल काम किया।
  • उन्होंने हैदराबाद की वायुसेना एकेडमी में फाइटर पायलट बनने की ट्रेनिंग ली।
  • फरवरी महीने की साल 2018 में वह भारत की पहली फाइटर प्लेन उड़ाने वाली महिला बनी।
  • वे भारतीय वायु सेना के रिक्वायरमेंट वीडियो के विज्ञापन में भी नज़र आईं थी।

अवनि ने भारत की समस्त महिलाओं का सर गर्व से ऊंचा कर दिया है। वे भारत की पहली बेटी है जिन्होंने एक फाइटर प्लेन को उड़ाया। अवनि ने साबित कर दिया है कि महिलाएं किसी भी क्षेत्र में पुरुषों से पीछे नहीं है

About Author

प्लान फ्यूचर

शिक्षा, करियर और रोजगार की सभी जानकारी हिंदी में ... प्लान फ्यूचर स्कूल और कॉलेज जाने वाले छात्रों के साथ-साथ नौकरी खोजकर्ताओं के लिए एक स्टॉप गंतव्य है।

अपना सवाल पूछे या कमेंट करे

Your email address will not be published. Required fields are marked *