एक दौर वो था जब महिलाओं को शादी करके बच्चों को जन्म देने योग्य ही समझा जाता था मगर धीरे-धीरे महिलाओं ने साबित कर दिया कि वे चाहें तो इस दुनिया का कोई भी काम कर सकती हैं. हर क्षेत्र में उन्होंने अपना मुकाम हासिल किया और अलग ही पहचान बनाई. आज हम आपको ऐसी ही 10 सफल महिलाओं के बारे में बताएंगे जिन्होंने अपनी अलग पहचान बनाकर कामयाबी का परचम लहराया है.

भारत की 10 सफल उद्यमी महिलाएं | India’s top 10 Women Entrepreneurs In Hindi

महिलाओं के लिए अपने सपनों को जीना आज भी मुश्किल है. कभी घरवाले, कभी समाज तो कभी मजबूरियां उनके पैरों की बेड़ियां बन जाती हैं और बहुत सी महिलाओं के सपनों को यूहीं कुचल दिया जाता है, यही कहकर उन्हें चुप बैठा दिया जाता है कि आज का दौर नहीं है कि लड़कियों को काम करने दिया जा सके. मगर इन्हीं मुश्किलों में कुछ महिलाओं ने चुनौतियों का सामना किया और अपनी खुद की अलग पहचान अपने दम पर बनाई. यहां हम आपको उन्हीं में से 10 महिलाओं के बारे में बताने जा रहे हैं…

1. इंदिरा नूयी | Indra Nooyi

साल 1974 को चेन्नई में जन्मीं इंद्रा नूयी ने मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज से विज्ञान विषय में स्नातक की उपाधि प्राप्त की. इन्होंने अपने करियर की शुरुआत Johnson & Johnson Co. और Textile Co. Mettur Beardsell से प्रोडक्स मैनेजर के रूप में की थी. साल 1994 में इंद्रा PepsiCo. में शामिल हुईं. साल 2006 में अपनी मेहनत के बल पर पेप्सिको की CEO बनीं. इंद्रा नूयी येल निगम के उत्तराधिकारी सदस्य, न्यूयॉर्क फेडरल रिजर्व के निदेशक बोर्ड में बी स्तर की निदेशक हैं, इसके साथ ही लिंकन प्रदर्शन कला केंद्र की एक सदस्य एंव Eisenhower Fellowship के न्यासी बोर्ड की भी सदस्य हैं. वर्तमान में इंद्रा यू एस-भारत व्यापार परिषद में सभाध्यक्ष के रूप में योगदान दे रही हैं. साल 2007 में इन्हें भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था.

2. इंदू जैन | Indu Jain

उत्तर प्रदेश में जन्मीं इंदु जैन भारत के सबसे बड़े मीडिया ग्रुप बेनेट, कोलमन और कंपनी लिमिटेड की वर्तमान अध्यक्ष हैं. 75 वर्षीय इंदु जैन टाइम्स ऑफ इंडिया और दूसरे बड़े समाचार पत्रों का मालिक साहू जैन की रिश्तेदार भी हैं. इंदु जैन कर्म के कार्यों से जुड़े धार्मिक लेख लिखती हैं. महिलाओं के अधिकार को लेकर वे हमेशा सक्रिय रही हैं और इन्होंने बिजनेस वर्ल्ड में भी अपनी खास पहचान बनाई. साल 2016 में इंदु जैन को भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था. 

3. किरण मजूमदार शॉ | Kiran Mazumdar Shaw

साल 1953 को पुणे में जन्मीं किरण मजूमदार Biocon Limited की संस्थापक अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक (सीएमडी) हैं. किरण ने बैंगलोर विश्वविद्यालय के माउंट कारमेल कॉलेज से जूलॉजी में स्नातक किया है. इसके बाद उन्होंने मेलबर्न विश्वविद्यालय के बल्लेरेट कॉलेज से मालटिंग और ब्रूइंग में स्नातकोत्तर किया. पढ़ाई पूरी करने के बाद इन्होंने Carlton and United Breweries में एक ट्रेनी के रूप में काम किया, फिर उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में Barrett Brothers and Burston कंपनी में भी ट्रेनी के रूप में काम किया है. साल 1978 में किरण मजूमदार भारत लौट आईं और Biocon की शुरुआत की. शुरुआत में इन्होने काफी मेहनत की, एक छोटी सी enzymes manifacturing company को आज की सबसे बड़ी Bio-Pharmaceutical company बनाई, जो लगभग 85 देशकों को एक्पोर्ट करता है. साल 1989 में किरण मजूमदार शॉ को पद्मश्री और साल 2005 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया. किरण जी Biocon Foundation के तहत गरीब कैंसर से पीड़ित व्यक्तियों का मुफ्त इलाज कराती हैं.

4. वंदना लूथरा | Vandana Luthra

साल 1959 को कोलकाता में जन्मीं वंदना लूथरा ने अपने करियर की शुरुआत साल 1989 में की थी जब उनकी दो छोटी बेटियां थीं. वंदना लूथरा ब्यूटी एंड वेलनेस कंपनी VLCC Health Care Ltd की फाउंडर हैं. VLCC आज 11 देशों में स्थापित है, इसकी कर्ताधर्ता सुंदरता स्पेशलिस्ट वंदना लूथरा हैं. दिल्ली से महिलाओं के लिए पॉलिटेक्निक करने के बाद वंदना लूथरा ने सौंदर्य, फिटनेस, भोजन-पोषण और त्वचा की देखभाल के लिए जर्मनी, यूके और फ्रांस से हायर एजुकेशन प्राप्त किया. साल 2013 में वंदना जी को पद्मश्री से सम्मानित किया गया और साल 2015 में उन्हें फॉर्च्यून इंडिया ने व्यवसाय में  33वीं सबसे शक्तिशाली महिला के रूप में सूची में शामिल किया था.

5. नैना लाल किदवई | Naina Lal Kidwai

साल 1957 को दिल्ली में जन्मीं नैना लाल किदवई ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से अर्थशास्त्र से स्नातक की डिग्री ली. इसके बाद हार्वर्ड बिजनेस स्कूल से MBA का कोर्स किया. नाना लाल हार्वर्ड बिजनेस स्कूल से स्नातक करने वाली पहली भारतीय महिला बनीं थीं. नैना लाल पेशे से चार्टेड अकाउंटेटंड हैं और HSBC बैंक की भारत में प्रमुख हैं. वर्तमान में नैना जी फिक्की की अध्यक्ष भी हैं और वे कई बैंकों के अहम पद संभाल चुकी हैं. वे पहली ऐसी भारतीय महिला हैं जिन्होंने विदेशी बैंक का भारत में संचालन किया. साल 2007 में इन्हें भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया गया.

6. चंदा कोचर | Chanda Kochar

साल 1961 को जोधपुर में जन्मीं चंदा कोचर वर्तमान में ICICI Bank की एमडी और CEO हैं. चंदा कोचर ने मुंबई के जमनाल बजाज इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज से मास्टर्स की डिग्री प्राप्त की. इ्हें मैनेजमेंट स्टडीज के लिए Wockhardt Gold Medal और Cost Accountancy में J. N. Bose Gold Medal से सम्मानित किया जा चुका है. 

7. एकता कपूर | Ekta Kapoor

साल 1975 को मुंबई में जन्मीं एक्टर जितेंद्र की बेटी एकता कपूर ने बहुत कम उम्र में वो मुकाम हासिल किया जो हर किसी का सपना होता है. भारतीय टेलीविजन का जाना-माना चेहका एकता कपूर ने बालाजी टेलीफिल्म्स की स्थापना की और इस बैनर तले ना जाने कितने सुपरहिट सीरियल और रिएलिटी शोज बना चुकी हैं. एकता कपूर ने अपने प्रोडक्शन हाउस में कई सारी बॉलीवुड की सुपरहिट फिल्में भी बनाई हैं. एकता कपूर द्वारा निर्देशित और निर्मित टीवी सीरियल ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’, ‘कहानी घर-घर की’ और ‘कसौटी जिंदगी की’ सबसे ज्यादा चर्चित है. एकता को अपने मजबूत और रचनात्मक बिजनेस कौशल से उन्हें साल 2006 में इंडियन टेली अवॉर्ड्स से सम्मानित किया जा चुका है.

8. अरुणधती भट्टाचार्या | Arundhati Bhattacharya

साल 1956 को कोलकाता में जन्मीं अरुणधती भट्टाचार्या देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की 7 सालों तक चीफ की पोस्ट पर कार्यरत रह चुकी हैं. इस पोस्ट पर पहुंचने वाली अरुणधती पहली महिला थीं, इसके अलााव वह भारत की एकलौती ऐसी महिला हैं जिनका नाम फॉर्च्यून लिस्ट में शामिल किया गया. 

9. विभा पडलकर | Vibha Padalkar

साल 1992 में विभा पडलकर ने इंग्लैंड और वेल्स के चार्टर्ड अकाउंटेट्स संस्थान के सदस्य के रूप में योग्यता प्राप्त की है. साल 2018 में 3 सालों के लिए विभा जी को भारत की प्रमुख बीमा कंपनी HDFC लाइफ इंश्योरेंस में MD और CEO बनाया गया. इसके साथ ही विभा पडलकर वित्त, कानूनी, सचिवालय और अनुपालन, आंतरिक लेखा परीक्षा, पेंशन सहायक से जुड़कर इस क्षेत्र में भी काम करती हैं.

10. नीलम धवन | Neelam Dhawan

अपने शुरुआती दिनों में नीलम धवन को फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स बनाने वाली एशियन पेंट्स और हिंदुस्तान यूनीलीवर जैसी कंपनियों ने रिजेक्ट कर दिया था. इन कंपनियों के मुताबिक, एक महिला मार्केट फेसिंग रोल्स के लिए सही नहीं होती हैं लेकिन नीलम धवन ने उन्हें गलत साबित किया. इन्होंने नई दिल्ली के सेंट स्टीफेंस कॉलेज से अर्थशास्त्र में स्नातक और फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज से MBA किया है. साल 2008 में इन्होंने HP India ज्वाइन किया और इससे पहले वह माइक्रोसॉफ्ट इंडिया की प्रबंध निदेशक पर कार्यरत थीं. HCL और IBM जैसी बड़ी आईटी कंपनी में ये काम कर चुकी हैं और वर्तमान में नीलम धवन आईटी कंपनी Hewlett Packard इंडिया की कंट्री मैनेजिंग डायरेक्टर हैं.

About Author

anshu

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *