मौजूदा समय में हमारे समाज में सेना के बाद यदि किसी करियर के विकल्प को सम्मानजनक दृष्टि से देखा जाता है, तो वह होता है शिक्षण। आजकल हर बच्चे के माता-पिता अपने बच्चों को बचपन से ही यह कहते हैं कि आगे जाकर आपको शिक्षक बनना है। शिक्षण का क्षेत्र बहुत व्यापक क्षेत्र है तथा इस में नौकरी के भी अच्छे विकल्प मौजूद हैं। अब सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि आखिर शिक्षण के क्षेत्र में करियर कैसे बनाएं? यदि आप भी शिक्षक बनने के इच्छुक है तो आपको सबसे पहले बीएड यानी कि बेचलर ऑफ एजुकेशन का कोर्स करना पड़ता है। बीएड (b.ed) करने के बाद आप एमएड की डिग्री हासिल कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि एमएड होता क्या है।


एमएड क्या होता है ?
एमएड का फुल फॉर्म होता है मास्टर ऑफ एजुकेशन। यह शिक्षा से संबंधित कोर्स होता है जिसमें आप पोस्ट ग्रेजुएशन करते हैं। यह कोर्स 2 साल का होता है तथा इसमें 4 सेमेस्टर होते हैं। इस कोर्स के अंतर्गत छात्रों को शिक्षा की नई तकनीक और विकास से संबंधित जानकारियां प्रदान की जाती है। एमएड पाठ्यक्रम में दाखिला लेने के लिए आपको एक प्रवेश परीक्षा पास करना आवश्यक होता है। यह परीक्षा बहुविकल्पीय होती है जिसमें 100 अंकों के प्रश्न आते हैं।
लेकिन इस कोर्स को करने के लिए जरूरी है कि आप बीएड (B.ed) कर चुके हो क्योंकि यह एक मास्टर डिग्री कोर्स है तथा इसके लिए बैचलर डिग्री कोर्स को पूर्ण करने की अनिवार्यता होती है। इस कोर्स को पूरा करने के बाद आप एक शिक्षक बन जाते हैं तथा आप की नियुक्ति सरकारी व प्राइवेट स्कूल में होती है।


एमएड (M.Ed) का सिलेबस
जैसे कि हम बता चुके हैं कि एमएड के कोर्स में आपके 4 सेमेस्टर होते हैं तथा उनमें निम्नलिखित सिलेबस पढ़ाए जाते हैं।

  • एजुकेशनल साइकोलॉजी
  • एजुकेशन स्टडीज
  • आईसीटी एंड ई-लर्निंग
  • रिसर्च एंड कम्युनिकेशन
  • फिलोसॉफिकल पर्सपेक्टिव आफ एजुकेशन एजुकेशन
  • मेजरमेंट एंड इवेलुएशन
  • कंपैरेटिव स्टडी


एमएड के लिए शैक्षणिक योग्यताएं

  • सबसे पहले आपको 12वीं कक्षा पास करना जरूरी है जिसके बाद आपको ग्रेजुएशन करना होता है।
  • एमएड के लिए आपको कम से कम स्नातक स्तर की डिग्री हासिल करना अनिवार्य होता है, जिसके बाद आप को भी एमएड करना होता है। B.Ed के लिए आपको कम से कम स्नातक स्तर की डिग्री हासिल करना अनिवार्य होता है।
  • B.Ed अवश्य करें क्योंकि बीएड के बिना आप एमएड नहीं कर सकते इसलिए जैसे ही आप ग्रेजुएशन करें उसके बाद सीधा B.Ed के लिए अप्लाई करें। बीएड में आपको कम से कम 55 फ़ीसदी मार्क्स लाने होते हैं जिसके बाद आप M.Ed कर सकते हैं।
  • बीएड (B.Ed) के बाद आप एमएड (M.Ed) करने के लिए योग्य हो जाते हैं। यदि आप रिजर्वेशन पूरी कर चुके हैं तथा आपको सीधे शिक्षण के क्षेत्र में जाना है तो आप बीएडएमएड साथ में कर सकते हैं। इसके लिए आपको प्रवेश परीक्षा देना होता है। यह कोर्स 3 वर्ष का होता है जिसके बाद आपको बीएड और एमएड दोनों की डिग्रियां मिल जाती हैं।

एमएड (M.Ed) के विषय
कई छात्र इस चीज को लेकर असमंजस में होते हैं कि वह आखिर किस विषय एमएड कर सकते हैं। आप नीचे दिए गए लिस्ट की मदद से यह निर्धारण कर सकते हैं।

  • हिंदी
  • अंग्रेजी
  • इतिहास
  • सामाजिक अध्ययन
  • भूगोल
  • नागरिक शास्त्र
  • संस्कृत
  • अर्थशास्त्र
  • जीव विज्ञान
  • सामान्य विज्ञान
  • रसायन विज्ञान
  • गणित
  • भौतिक विज्ञान
  • व्यवसाय संगठन
  • वित्तीय लेखांकन


एमएड की फीस
यदि बात करे एमएड की फीस की तो हम आपको बता दें, एमएड की फीस यूनिवर्सिटी पर आधारित होती है। अलग-अलग यूनिवर्सिटी में अलग-अलग फीस लिया जाता है यानी कि फीस इस बात पर निर्भर करती है आप किस तरह के कॉलेज में एडमिशन ले रहे हैं। कॉलेज भी दो तरह के होते हैं एक होता है सरकारी दूसरा प्राइवेट दोनों की फीस अलग-अलग होती है। जो कि निम्नलिखित है:-

  • सरकारी कॉलेज:- सरकारी कॉलेजों की फीस 20 हज़ार से लेकर 30 हजार प्रति वर्ष होती है। हालांकि सरकारी कॉलेज में प्रवेश के लिए आपको प्रवेश परीक्षा पास करना होता है।
  • प्राइवेट कॉलेज:- प्राइवेट कॉलेज की फीस सरकारी के मुकाबले ज्यादा होती है एक प्राइवेट कॉलेज में 50 हज़ार से लेकर ₹100000 तक प्रतिवर्ष हो सकती है।

M.Ed के लिए टॉप विश्वविद्यालय

  • एमिटी यूनिवर्सिटी, नोएडा
  • सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय
  • कोल्हान विश्वविद्यालय, जमशेदपुर
  • यूनिवर्सिटी ऑफ मुंबई, मुंबई
  • राजस्थान विश्वविद्यालय, कोटा
  • जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय, जोधपुर
  • चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ
  • अलीगढ़ मुस्लिम विद्यालय, अलीगढ़
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी
  • बैंगलोर यूनिवर्सिटी
  • गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्था यूनिवर्सिटी
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
  • जामिया मिलिया इस्लामिया
  • महर्षि दयानंद यू रोहतक
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी
  • भाभा कॉलेज ऑफ एजुकेशन


एमएड करने के बाद आप कहीं भी नौकरी हासिल कर सकते हैं। इसके बाद आप प्रोफेसर, सॉफ्ट स्किल ट्रेनर, हेड मास्टर, लेक्चरर, काउंसलर आदि क्षेत्रों में करियर बना सकते हैं।

About Author

प्लान फ्यूचर

शिक्षा, करियर और रोजगार की सभी जानकारी हिंदी में ... प्लान फ्यूचर स्कूल और कॉलेज जाने वाले छात्रों के साथ-साथ नौकरी खोजकर्ताओं के लिए एक स्टॉप गंतव्य है।

अपना सवाल पूछे या कमेंट करे

Your email address will not be published. Required fields are marked *