परीक्षा की घड़ी हर छात्र के जीवन में एक बार जरूर आती है लेकिन परीक्षा में अच्छे अंक लाना छात्रों के जीवन में सबसे बड़ी चुनौती होती है। क्योंकि कई छात्र इसमें सफल नहीं हो पाते। इसके पीछे की वजह है परीक्षा में अच्छी तैयारी न करना। लेकिन परीक्षा में तैयारी करना ही जरूरी नहीं होता बल्कि यदि आप नियमित तैयारी करते हैं तभी आप परीक्षा में सफल हो पाते हैं, क्योंकि परीक्षा की तैयारी 1 दिन में नहीं हो सकती, उसके लिए एक लंबा समय चाहिए होता है। इसीलिए परीक्षा की तैयारी करने का सबसे उपयुक्त विकल्प होता है टाइम टेबल बनाना। आज इस लेख में हम आपको बताएंगे वह 7 महत्वपूर्ण टिप्स जिन्हें आप अपने टाइम टेबल में शामिल करके सर्वश्रेष्ठ परिणाम हासिल कर सकते हैं।


टाइम टेबल में प्रत्येक विषय को करें शामिल
जब भी टाइम टेबल बनाए इस बात का ध्यान रखें कि उसमें सभी विषयों को शामिल करें। यह विषय क्रमवार होने चाहिए। इसके अलावा आप अपनी प्राथमिकता के अनुसार भी विषयों को शामिल कर सकते हैं। प्राथमिकता के आधार पर तय किया जाना चाहिए कि कौन से विषय कठिन है तथा कौन से आपको आसान लगते हैं। कठिन विषयों को ज्यादा प्राथमिकता दीजिए और वे विषय जो आपको आसान लगते हैं उन्हें अंत में कीजिए। इसका कारण यह होता है कि जिन विषयों में आप कमजोर हैं उन्हें तैयारी के लिए एक लंबा समय लगता है। वहीं दूसरी ओर जो विषय आसान होते हैं उनकी तैयारी कुछ समय में ही हो जाती है। इसलिए यदि आप टाइम टेबल में मुश्किल विषयों को पहले से ही तैयार करना शुरू कर देंगे तो इससे आपकी परीक्षा का बोझ कम हो जाएगा।


विषयों के साथ अध्यायों को करें शामिल
जब भी आप अपना टाइम टेबल बनाए तो इस बात का ध्यान रखें कि प्रत्येक विषय के साथ आप उन अध्यायों का उल्लेख जरूर करें जो आप पढ़ना चाहते हैं, जिससे आपको यह तय करने में आसानी होगी कि आपको कितने विषय, कितने दिनों में पढ़ने हैं। इससे आपको लक्ष्य निर्धारण में आसानी होगी। आप यह लक्ष्य निर्धारित कर पाएंगे कि आपको कितने विषयों को पढ़ना है।


पढ़ने का एक निश्चित समय निर्धारित करें
टाइम टेबल का निर्माण करते समय इस बात का ध्यान रखें कि आप पढ़ने के लिए एक निश्चित समय को निर्धारित जरूर करें और उसका पालन भी करें। यदि आप ऐसा नहीं करते तो आपको अपने लक्ष्य में सफल होने में कठिनाई होगी, क्योंकि किसी भी टाइम का निर्धारण करने से आप उस समय सीमा को टालने लगते हैं, मय सीमा का निर्धारण करें तो आप अपने पूरे रूटीन को ध्यान में रखकर उस समय का चुनाव करें जिसमें आप बिल्कुल फ्री होते हैं।


टाइम टेबल में पढ़ने के साथ ब्रेक जरूर लें
जब भी आप टाइम टेबल का निर्माण करें तो उसमें पढ़ने के घंटों के बीच-बीच में थोड़े ब्रेक का उल्लेख जरूर करें। यदि आप ब्रेक नहीं लेते और लगातार पढ़ते जाते हैं तो आपको बोरियत महसूस होने लग जाती है। जिस वजह से आप अपनी पढ़ाई में ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते। इससे आपका मस्तिष्क भी तनावग्रस्त हो जाता है। ब्रेक में आप उन कार्यों को शामिल कर सकते हैं जिन्हें करने में आपको खुशी मिलती है। जैसे की पेंटिंग, सिंगिंग गाने सुनना आदि इसीलिए रोज 2 से 3 घंटे की पढ़ाई में 20 से 30 मिनट का अंतराल जरूर ले।


लक्ष्य प्राप्ति के बाद टाइम टेबल में कार्य को मार्क जरूर करें
जिन जिन विषयों को आप पूरा पढ़ लें उन्हें टाइम टेबल में मार्क करते जाए। इससे आपको यह फायदा होगा कि जब भी आप अगली बार पढ़ने को बैठेंगे तब आपको यह पता होगा कि आपने आखरी बार पढ़ाई कहां छोड़ी थी और आपको कहां से पढ़ना शुरू करना है। इसके साथ ही जैसे-जैसे आप उन कार्यों को पूरा कर देते हैं वैसे-वैसे आपके अंदर आत्मविश्वास में भी वृद्धि होती है।


आत्मविश्वास और दृढ़ निश्चय बनाए रखें
कई छात्र ऐसे होते हैं जो टाइम टेबल बनाने के बाद उसका कुछ समय तक तो पालन करते हैं लेकिन कुछ समय बाद वह अपनी नियमित दिनचर्या पर लौट जाते हैं तथा पढ़ाई छोड़ देते हैं। ऐसा करने से आप अपने लक्ष्य में सफल नहीं हो पाते। यदि आप अच्छे अंक लाना चाहते हैं तो आपको आत्मविश्वास बनाए रखना होगा तथा दृढ़निश्चय के साथ आपको यह संकल्पना करनी होगी कि आप इस टाइम टेबल के हिसाब से ही नियमित रूप से पढ़ाई करेंगे। इससे आपको सफलता से कोई नहीं रोक पाएगा।


टाइम टेबल में प्रत्येक विषय के लिए निश्चित समय निर्धारित करें
इसके अलावा आप अपने टाइम टेबल में प्रत्येक विषय या फिर प्रत्येक अध्याय के आधार पर निश्चित समय निर्धारित कर सकते हैं। इस निर्धारित समय में आपको उक्त विषय या अध्याय को पूरा करना होता है। यदि आप ऐसा करते हैं तो परीक्षा से पहले ही समय रहते आप अपने पूरे पाठ्यक्रम को पूरा करने में सफल हो पाते हैं।

About Author

प्लान फ्यूचर

शिक्षा, करियर और रोजगार की सभी जानकारी हिंदी में ... प्लान फ्यूचर स्कूल और कॉलेज जाने वाले छात्रों के साथ-साथ नौकरी खोजकर्ताओं के लिए एक स्टॉप गंतव्य है।

अपना सवाल पूछे या कमेंट करे

Your email address will not be published. Required fields are marked *