हर छात्र की यह मनोकामना रहती है कि वह अपना भविष्य निर्माण करें तथा आगे जाकर अपने करियर में सफल हो सके। लेकिन अधिकांश छात्रों के सामने यह समस्या आती है कि वह यह फैसला कैसे लें कि उन्हें आगे जाकर करना क्या है? ऐसे में कई छात्र गलत करियर का चुनाव कर लेते हैं तथा जीवन में कभी सफल नहीं हो पाते। इस वजह से वह हमेशा पछतावे की जिंदगी व्यतीत हैं। ऐसे में छात्रों के लिए करियर मार्गदर्शन जरूरी हो जाता है। हालांकि, कई छात्र ऐसे हैं जो करियर मार्गदर्शन को बेफिजूल मानते हैं और आगे जाकर पछताते हैं। एक छात्र के जीवन में करियर मार्गदर्शन बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, क्योंकि यही आपको करियर में जहां आगे बढ़ा सकता है, वही बिना इसके आप करियर में विफल भी हो जाते हैं। दुनियाभर में किए गए कई शोधों में यह बात पता चली है कि छात्रों से लेकर पेशेवरों तक के लिए करियर मार्गदर्शन बेहद ही जरूरी अंग है। ऐसे में यदि आप भी अपने करियर में आगे जाकर सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तथा पहले से ही पूर्व नियोजित करियर की एक रूपरेखा बनाकर चलते हैं तो आपको अपने जीवन में सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।


करियर मार्गदर्शन छात्र जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग है।
आज से कुछ सालों पहले नजर डाले तो नौकरी और रोजगार के क्षेत्र में इतनी ज़ोरदार प्रतिस्पर्धा नहीं थी। लेकिन मौजूदा समय में करियर विकल्पों व नौकरी को लेकर एक होड़ सी मची हुई है। ऐसे में बिना करियर मार्गदर्शन के काम चल ही नहीं सकता। करियर मार्गदर्शन छात्र जीवन का एक महत्वपूर्ण पहलू है क्योंकि एक करियर मार्गदर्शन ही आपको वैज्ञानिक तरीके से और आपका मनोवैज्ञानिक परीक्षण करके आपको सर्वोत्तम करियर के विकल्पों से रूबरू करवाता है। इससे एक लाभ यह भी मिलता है कि आप शुरुआत से ही इसकी तैयारी करना शुरू कर देते हैं और अपने करियर में सफल हो पाते हैं। निम्नलिखित बिंदुओं के माध्यम से समझा जा सकता है कि आखिर करियर मार्गदर्शन क्यों जरूरी है:-


अनगिनत करियर विकल्पों में से उपयुक्त विकल्प का चयन
1990 में आई वैश्वीकरण के बाद से ही शिक्षा के क्षेत्र में क्रांति से आ गई है, जिससे करियर के विकल्प अनगिनत हो चुके हैं। ऐसे में ढेरो करियर में से एक सही करियर का चुनाव करना बेहद जरूरी होता है। कई छात्र बिना करियर मार्गदर्शन के किसी भी करियर विकल्प का चयन कर लेते हैं और वह अपने भविष्य में सफल नहीं हो पाते। ऐसी स्थिति से बचने के लिए करियर मार्गदर्शन बेहद जरूरी है क्योंकि यह छात्रों में उत्पन्न इस तरह के भ्रम को दूर करता है। करियर मार्गदर्शन की मदद से आप एक उपयुक्त करियर का चयन करते हैं तथा उसमें सफलता प्राप्त कर सकते हैं। यह आपको सूझबूझ का भी समय देता है।


करियर सम्बंधी रणनीति तैयार करने में मददगार
करियर मार्गदर्शन की मदद से आपको एक स्पष्ट तस्वीर प्राप्त होती है कि आगे आपको कैसे-कैसे क्या करना है। यानी कि जब आप करियर मार्गदर्शन की मदद से अपने लिए करियर का चुनाव कर लेते हैं। तब आप बेहतर रणनीति तैयार कर सकते हैं, जिसकी मदद से आपके लिए आगे का रास्ता आसान हो जाता है।


प्रतिस्पर्धा की होड़ में सफल बनाता है।
जैसे कि आप जानते ही हैं कि आज के दौर में किसी भी करियर विकल्प में कितनी प्रतिस्पर्धा तथा हौड़ है। आपकी तरह ही कई अन्य लोग भी होंगे जो उस करियर विकल्प को चुनकर अपने जीवन में सफल होना चाहते होंगे। ऐसे में एक प्रतियोगिता निर्मित हो जाती है। इस आभासी प्रतियोगिता में आप यदि सफल होना चाहते हैं तो आपको करियर मार्गदर्शक की आवश्यकता पड़ेगी, क्योंकि एक करियर मार्गदर्शक ही ऐसा शख्स होता है जिसे उक्त करियर से संबंधित संपूर्ण जानकारी होती है तथा वह आपको उस संबंध में हर तरह की जानकारी प्रदान कर सकता है। इसके साथ ही वह आपको उस करियर से संबंधित वर्तमान स्थिति के बारे में भी बताता है जिससे आप आगे जाकर अपने रास्ते से भटकने, किसी धोखे से बच सकते हैं।


वैश्विक तौर पर करियर का चुनाव करने में मदद करता है।
सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया के कई हिस्सों में करियर के कई अनेक विकल्प मौजूद है। यदि आप भारत में करियर को आगे बढ़ाना चाहते हैं तो इसमें आपको ज्यादा कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ता। लेकिन यदि आप विश्व में किसी देश में जाकर अपनी पढ़ाई पूरी करना चाहते हैं और इस संबंध में आपको भविष्य की संभावनाएं जाननी है तो आप करियर मार्गदर्शन का सहारा ले सकते हैं, क्योंकि यही आपको बता सकता है कि उक्त करियर को अपने देश में ही आगे बढ़ाना चाहिए या की विदेश में जाकर।


शिक्षा व्यय और पैसों की रणनीति बनाने में मदद करता है।
कई बार छात्र ऐसे करियर विकल्पों का चुनाव कर लेते हैं जिनमें लगने वाला शिक्षा व्यय अत्यधिक होता है जो कि उनकी पहुंच से बाहर होता है। ऐसे में करियर मार्गदर्शन की मदद से आपको सस्ते में अच्छा करियर चुनने में मदद मिलती है, क्योंकि यही आपको बताता है कि कौन से अच्छे कॉलेज और पाठ्यक्रम है जिनमें लगने वाला यह व्यय कम है। शिक्षा व्यय का पता लगने पर आप पहले से ही धन इकट्ठा करना शुरू कर देते हैं, जिससे आपको आगे परेशानी न आए।

अतः हम कह सकते हैं कि करियर मार्गदर्शन को कम आंकना आपके लिए घाटे का सौदा हो सकता है, इसलिए इसके महत्व को कभी नजरअंदाज नहीं कीजिए और आज ही करियर मार्गदर्शन लीजिए।

About Author

प्लान फ्यूचर

शिक्षा, करियर और रोजगार की सभी जानकारी हिंदी में ... प्लान फ्यूचर स्कूल और कॉलेज जाने वाले छात्रों के साथ-साथ नौकरी खोजकर्ताओं के लिए एक स्टॉप गंतव्य है।

अपना सवाल पूछे या कमेंट करे

Your email address will not be published. Required fields are marked *