अनेक छात्र अपने करियर के लिए अलग-अलग क्षेत्रों का चुनाव करते हैं। कोई डॉक्टर बनना चाहता है कोई अध्यापक, कोई इंजीनियर तो कोई पत्रकार। लेकिन कहीं छात्र ऐसे भी होते हैं जो इन सब से अलग कुछ हटके करना चाहते हैं। ऐसे ही कई छात्र है जो सीआईडी ऑफिसर बनना चाहते हैं। अब आपके दिमाग में यह सवाल उठेगा कि आखिर सीआईडी ऑफिसर होता क्या है? इसके लिए आपको एक सीरियल को याद करना होगा। यह सीरियल सोनी टीवी में आता था। जिसमें यह दिखाया जाता था कि कैसे सीआईडी ऑफिसर का एक समूह किसी भी घटना के बारे में गुप्त रूप से जानकारी इकट्ठा करता था तथा उस मामले को सुलझाता था। यही काम असल जीवन के सीआईडी ऑफिसर का भी होता है। यदि आप भी एक सीआईडी ऑफिसर बनना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा पढ़िए।
सीआईडी ऑफिसर क्या है?
सीआईडी का मतलब होता है अपराध जांच विभाग, जिसे अंग्रेजी में क्राइम इन्वेस्टीगेशन डिपार्टमेंट (Crime investigation department) कहते हैं। यह एक खुफिया विभाग होता है जो कि भारत में ही नहीं दुनिया के कई देशों में पाया जाता है। हालांकि कई देशों में इसे अलग-अलग नाम दिए गए हैं। कई लोग मानते हैं कि सीआईडी एक अलग विभाग होता है, लेकिन सीआईडी कोई अलग विभाग नहीं होता। यह भारत सरकार के अधीन ही काम करता है तथा विभिन्न मामलों को सुलझाता है। सीआईडी को साल 1906 में ब्रिटिश सरकार के द्वारा बनाया गया था। तब से यह विभाग अस्तित्व में है। यह पुलिस के अंतर्गत एक विभाग होता है। जहां पुलिस का काम होता है अपराधियों को पकड़ना, किसी मामले की जांच करना। वही सीआईडी का काम होता है किसी विशेष मामले तथा गंभीर मामलों में मुजरिम को पकड़ना। इसके अंतर्गत कई तरह के मामले शामिल हैं जैसे कि हत्या, डकैत, धोखाधड़ी, रेप आतंकवाद आदि। आसान शब्दों में कहें तो सीआईडी विशेष रूप से ज्यादा गंभीर मामला को हल करने का काम करता है। यह ऐसे मामले होते हैं जिन्हें पुलिस सुलझा नहीं पाती। सीआईडी इन्हें सुलझाने के लिए कई तरह के विभागों की भी मदद लेता है तथा वह किसी भी राज्य में जा सकता है। हालांकि इसके लिए उसे राज्य सरकार और अपने से वरिष्ठ अधिकारी से अनुमति लेनी होती है। यदि सीआईडी ऑफिसर के ड्रेस कोड की बात करें तो सीआईडी का कोई निश्चित ड्रेस कोड नहीं होता। वह गुप्त रूप से काम करते हैं इसीलिए वह आम लोगों के बीच वैसे ही कपड़े पहनते हैं।

सीआईडी ऑफिसर कैसे बने?
अब बात करते हैं कि आप सीआईडी ऑफिसर कैसे बन सकते हैं। आपको बता दें सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए कई तरह के मापदंड होते हैं जिन्हें पार करना जरूरी होता है। उन्ही में से कुछ मापदंड इस प्रकार है:-
आयु सीमा
ऐसा नहीं है कि किसी भी आयु वर्ग के लोग सीआईडी ऑफिसर बन सकते हैं। विभिन्न सरकारी विभागों में जैसे आयु सीमा निश्चित की जाती है, वैसे ही सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए भी निश्चित आयु सीमा है। हालांकि आयु सीमा अलग-अलग वर्गों के उम्मीदवारों के लिए अलग-अलग है।
सामान्य श्रेणी- 20 से 27 वर्ष
अन्य पिछड़ा वर्ग- 20 से 30 वर्ष
अनुसूचित जाति /जनजाति- 20 से 35 वर्ष

शैक्षणिक योग्यता

शैक्षणिक योग्यता सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि बिना इसके आप सीआईडी ऑफिसर नहीं बन सकते। सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता निम्नलिखित होनी चाहिए:-
आपके पास भारत की नागरिकता होनी जरूरी है
सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए आपको 12वीं पास होना जरूरी है। आप किसी भी स्ट्रीम से 12वीं कर सकते हैं।
उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज या यूनिवर्सिटी से स्नातक की या ग्रेजुएट होना जरूरी है।
सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए महिलाएं या पुरुष कोई भी आवेदन कर सकता है।
शारीरिक योग्यता
शैक्षणिक योग्यता के साथ ही शारीरिक योग्यता भी सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए जरूरी होती है। क्योंकि परीक्षा के बाद उम्मीदवार को शारीरिक टेस्ट से होकर गुजरना पड़ता है। सीआईडी ऑफिसर के लिए निम्नलिखित शारीरिक मापदंड निर्धारित किए गए है:-
महिला की ऊंचाई ( 150 सेमी)
पुरुष की ऊंचाई ( 165 सेमी)
छाती (76 सेमी )
नेत्र – डिस्टेन्स विजन -6/6 दूसरी 6/9
पास की नज़र – एक आंख (0.6) अन्य (0.8)
सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए प्रयास
सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए कुछ प्रयास निर्धारित किए गए हैं। इतने प्रयासों के अंदर यदि आप परीक्षा पास कर लेते हैं, तो आप सीआईडी ऑफिसर बन सकते हैं। लेकिन इन सीमाओं के अंतर्गत यदि आप ऐसा नहीं कर पाते तो आप नहीं बन सकते। सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए अलग-अलग वर्गों के लिए अलग-अलग सीमा निर्धारित की गई है। जो कि निम्नलिखित हैं:-
सामान्य श्रेणी- 5 बार
अन्य पिछड़ा वर्ग- 7 बार
अनुसूचित जाति व जनजाति- अनगिनत

सीआईडी ऑफिसर के लिए चयन की प्रकिया
सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए आपको एक निश्चित चयन प्रक्रिया से गुजरना जरूरी है, जिसमें शारीरिक टेस्ट, लिखित परीक्षा, इंटरव्यू आदि शामिल है। उम्मीदवार को निम्नलिखित चरणों में चयनित किया जाता है-
लिखित परीक्षा:- सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए UPSC या SSC द्वारा हर साल परीक्षाओं का आयोजन किया जाता है। यदि आप इन परीक्षाओं के लिए आवेदन भरना चाहते हैं तो आप उनकी वेबसाइट पर जाकर चेक कर सकते हैं। यह परीक्षा दो भागों में की जाती हैं।
पहली परीक्षा:- जब आप सीआईडी ऑफिसर के आवेदन करते हैं तो आवेदन के बाद जो आपका आपकी परीक्षा होती है, उसे प्रारंभिक परीक्षा कहा जाता है। इसमे 2 घंटे का समय दिया जाता है।
मुख्य परीक्षा:- जब आप प्रारंभिक परीक्षा में उत्तीर्ण हो जाते हैं तब आपको द्वितीय या मुख्य परीक्षा देना होता है।यह 400 अंकों की होती है जिसमें 4 घंटे का समय दिया जाता है। परीक्षाओं में सामान्य ज्ञान, एप्टिट्यूड ,अंग्रेजी, रिजनिंग आदि क्षेत्रों से संबंधित प्रश्न आते हैं।
शारीरिक परीक्षण :- प्राथमिक और मुख्य परीक्षाओं को पास करने के बाद आपका शारीरिक परीक्षण किया जाता है, जिसमें विभिन्न प्रकार से सीआईडी के लिए जो सारी मापदंड तय किए गए हैं उनको जांचा जाता है।
साक्षात्कार:- जब आप प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा पास कर लेते हैं तथा शारीरिक टेस्ट में भी सफल हो जाते हैं। तब आपको साक्षात्कार देना होता है जिसे क्लियर करने के बाद आप एक सीआईडी ऑफिसर बन जाते हैं।

About Author

प्लान फ्यूचर

शिक्षा, करियर और रोजगार की सभी जानकारी हिंदी में ... प्लान फ्यूचर स्कूल और कॉलेज जाने वाले छात्रों के साथ-साथ नौकरी खोजकर्ताओं के लिए एक स्टॉप गंतव्य है।

अपना सवाल पूछे या कमेंट करे

Your email address will not be published. Required fields are marked *