शिक्षा College Career Advice

पी.एच.डी क्या है? जाने इसकी संपूर्णं जानकारी

पी.एच.डी क्या है? जाने इसकी संपूर्णं जानकारी

टीचर का करियर चुन चुके लोगों का एक ही सपना होता है कि वह पीएचडी की डिग्री हासिल कर नाम के आगे डॉ. लगाएं. मगर ऐसा करना आसान नहीं होता है और ये बहुत बड़ी चुनौती होती है क्योंकि इसे पूरा करने में बहुत मेहनत और पढ़ाई करनी होती है. Ph.D करने का मतलब आपको अपने पसंदीदा विषय में महारत हासिल करा होता है, यह विषय कोई भी हो सकता है. जब कोई विषय आपको बहुत पसंद है जिसके अंत तक आप जाना चाहें तो आप उस विषय के साथ पीएडी कर सकते हैं, फिर आप उस विषय में एक्सपर्ट बन सकते हैं. इस कोरस को करने से आपको प्रतिष्ठा मिलती है लेकिन इसके साथ ही आप अपने काम से संतुष्ट भी होते हैं क्योंकि ये आपका मनपसंद काम बन सकता है. यहां हम आपको Full Information of Ph.D देंगे.

पी.एच.डी क्या है? | What is Ph.D?

अक्सर लोग इंटरनेट पर Ph.D ka fullform kya hai सर्च करते हैं क्योंकि उनका इंट्रेस्ट इसमें काफी होता है और वह इनकी सारी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं. तो आपको बता दें कि पी.एच.डी का फुलफॉर्म डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी (Doctor of Philosophy) होता है, इस कोर्स को करने के बाद आप नाम के आगे डॉ. शब्द लगा सकते हैं. यह एक डॉक्टरल डिग्री होती है, अगर आपको किसी महाविद्यालय या विश्वविद्यालय में प्रोफेसर बनना है तो आपके पास Ph.D ki Degree होनी चाहिए. आप इस डिग्री के बाद रिसर्च या फिर एनालिसिस भी कर सकते हैं, इसे करने के बाद आप उस विषय के एक्सपर्ट कहलाएंगे.

पी.एच.डी की डिग्री प्राप्त करने की प्रक्रिया | What is process of Ph.D in India

पीएचडी के लिए क्वालिफिकेशन के लिए आपको सबसे पहले 12वीं पास करना होगा. यहीं से आपको अपना एक पसंदीदा सबजेक्ट चुनना होता है, जिसके साथ आपको स्नातक (Bachlor’s) और स्नातकोत्तर (Masters) में भी पढ़ना होगा. 3 सालों तक अपने पसंदीदा विषय पढ़कर आपको समझ आएगा कि उस विषय में कौन-कौन से भाग में आपको सबसे ज्यादा रुचि है. इस कोर्स में आपको मास्टर्स में कम से कम 55 प्रतिशत अंक लाना होगा. इसके बाद आपको UGC NET की परीक्षा क्लियर करना होता है. किसी भी कोर्स के लिए आपको एक प्रवेश परीक्षा देनी होती है, वैसे ही पीएचडी के लिए आपको UGC NET Test Pass करना होता है, इसे क्लियर करके आप PhD Ke Liye Qualification पाने के लिए पूरी तरह से तैयार हो जाते हैं.

कैसे लें पीएचडी में एडमिशन? | Ph.D me kaise Addmission le?

पीएचडी में एडमिशन कैसे लेना है यह पूरी तरह से कॉलेज पर निर्भर करता है. ज्यादातर कॉलेज यूजीसी की परीक्षा क्लियर होने पर ही दाखिला देते हैं और कुछ कॉलेज अलग से Entrance Exam करवाते हैं. इस परीक्षा को क्लियर करने के बाद पर्सनल इंटरव्यू (Personal Interview) देना होता है और फिर इसे क्लियर करने के बाद आपको Ph.D me Addmission मिल जाता है. एडमिशन मिलने के बाद आपको पढ़ाई में पूरी तरह डूब जाना होता है. उस पर आपको बहुत सारी रिसर्च करनी होती है. उस पर थीसिस लिखने होते हैं. अब आपके मन में सवाल होगा कि Ph.D कितने साल का होता है तो आपको बता दें ये 3 साल की होती है और अगर आप चाहें तो इसे 6 साल भी खींच सकते हैं. मगर इससे ज्यादा नहीं जाता और यह करने के बाद आपके नाम के आगे डॉक्टर लग जाएगा यानी आपको डॉक्टरेट की उपाधि मिल जाएगी.

पीएचडी करने के फायदे | Advantage of Ph.D Course in Hindi

पीएचडी करने के बाद आपको कई तरह के फायदे हो सकते हैं, मगर जो खास फायदे होंगे उनके बारे में जानकारी कुछ इस प्रकार है…

1. अगर आप अपने मनपसंद विषय पर करियर बनाते हैं, उसकी पूरी गहराई से जानकारी आपको प्राप्त हो जाएगी.

2. यह करने के समय आप खुद के मालिक होते हैं, यानी आपको यह पूरी तरह से खुद को रिसर्च करना होता है. इसमें आपका समय, सबमिट करने का दिन सबकुछ आपके मुताबिक ही होता है.

3. रिसर्च करने के दौरान आप बहुत सारी चीजें जानते हैं और नये-नये लोगों से मिल पाते हैं. इसलिए आपको कई अच्छे-बुरे अनुभव हो जाते हैं. 

4. आपके नाम के आगे डॉक्टर लग जाता है जो एक प्रतिष्ठा की बात है.

5. पीएचडी एक उच्च डिग्री कोर्स है, जिसे करने के बाद आपका मान-सम्मान सोसायटी में बनती है.

About Author

anshu

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *